Tuesday, January 20, 2009

माँ के आँसू

बचपन से ही देखता आ रहा हूँ माँ के आँसू
सुख में भी, दुख में भी
जिनकी कोई कीमत नहीं
मैं अपना जीवन अर्पित करके भी
इनका कर्ज नहीं चुका सकता।

हमेशा माँ की आँखों में आँसू आये
ऐसा नहीं कि मैं नहीं रोया
लेकिन मैंने दिल पर पत्थर रख लिया
सोचा, कल को सफल आदमी बनूँगा
माँ को सभी सुख-सुविधायें दूँगा
शायद तब उनकी आँखों में आँसू नहीं हो
पर यह मेरी भूल थी।

आज मैं सफल व्यक्ति हूँ
सारी सुख-सुविधायें जुटा सकता हूँ
पर एक माँ के लिए उसके क्या मायने?
माँ को सिर्फ चाहिए अपना बेटा
जिसे वह छाती से लगा जी भर कर प्यार कर सके
पर जैसे-जैसे मैं ऊँचाईयों पर जाता हूँ
माँ का साथ दूर होता जाता है
शायद यही नियम है प्रकृति का।
कृष्ण कुमार यादव
kkyadav.y@rediffmail.com

40 comments:

Dr. Brajesh Swaroop said...

...बड़ी मार्मिक बात लिख दी के.के. जी आपने. पढ़कर ऑंखें नम हो गयीं.

Nirmla Kapila said...

bahut sunder sach ke kreeb is maarmik abhivyakti ke liye bdhaai

mehek said...

bahut bhavpurn rachana badhai

रंजना [रंजू भाटिया] said...

पर जैसे-जैसे मैं ऊँचाईयों पर जाता हूँ
माँ का साथ दूर होता जाता है
शायद यही नियम है प्रकृति का।

बहुत सच कहा आपने .सुंदर रचना

बाजीगर said...

आज मैं सफल व्यक्ति हूँ
सारी सुख-सुविधायें जुटा सकता हूँ
पर एक माँ के लिए उसके क्या मायने?
माँ को सिर्फ चाहिए अपना बेटा
जिसे वह छाती से लगा जी भर कर प्यार कर सके
.....भावनाओं की अनुपम अभिव्यक्ति के बीच जीवन का एक कड़वा सच.

डाकिया बाबू said...

मां पर के.के. जी की कई कवितायेँ पढने का मौका मिला है, पर यह कविता अलग प्रभाव छोड़ती है.

दिनेशराय द्विवेदी Dineshrai Dwivedi said...

जो कुछ चाहिए माँ को हम दे नहीं सकते
उस के ऋण से कभी उऋण नहीं हो सकते।

संगीता पुरी said...

सुंदर रचना....सही लिखा है ..... पर बेटे की सफलता से संतोष करती हुई मां उससे दूरी भी बर्दाश्‍त कर लेती है ।

Pallavi said...

मां के त्याग ऒर वात्सल्य का कोई मूल्य नहीं हॆ,परन्तु उसके आंसुओं को भी अगर हम समझ सकें तो अच्छी बात हॆ।

purnima said...

पर जैसे-जैसे मैं ऊँचाईयों पर जाता हूँ
माँ का साथ दूर होता जाता है
शायद यही नियम है प्रकृति का।
ye lines kafi bhavpurn he.
maa hamesha hamare liye prathna karti he. aur hame khush dekhna chati he.

अनिल कान्त : said...

sarvottam ...ati uttam

maa ke uppar mere dwara likhi kavita bhi padhe

http://anilkant.blogspot.com/2009/01/blog-post_51.html

राज भाटिय़ा said...

पर जैसे-जैसे मैं ऊँचाईयों पर जाता हूँ
माँ का साथ दूर होता जाता है.....
यह सिर्फ़ तुम सोचते हो , मां नही, मां तो खुश होती है की उस का बेटा उस के सपनो को साकार कर रहा है, ओर यह आप का बड्डपन है कि मां का सोचते हो, मां के बारे सोचते हॊ.
बहुत सुंदर कविता हम चाह कर भी मां का कर्ज नही चुका सकते, क्योकि मां तो सिर्फ़ मां ही होती है

*KHUSHI* said...

आज मैं सफल व्यक्ति हूँ
सारी सुख-सुविधायें जुटा सकता हूँ
पर एक माँ के लिए उसके क्या मायने?
माँ को सिर्फ चाहिए अपना बेटा
जिसे वह छाती से लगा जी भर कर प्यार कर सके
पर जैसे-जैसे मैं ऊँचाईयों पर जाता हूँ
माँ का साथ दूर होता जाता है


yehi sacchahi hai... unchaai pe jaate jaate hamara saath MAA se dur hota hai..
bahut hi bhaavnatmak rachna...

Amit said...
This comment has been removed by the author.
Amit said...

bahut hi sahi baat kehi hai aapne..

BrijmohanShrivastava said...

वो होते हैं किस्मत वाले जिनके माँ होती है

आशुतोष दुबे "सादिक" said...

गणतंत्र दिवस पर आपको ढेर सारी शुभकामनाएं

Bhanwar Singh said...

इस भावपूर्ण कविता के लिए बधाई.

Ram Shiv Murti Yadav said...

दुनिया में माँ से बढ़कर कोई रिश्ता नहीं. इस भाव को ही दर्शाती है कृष्ण कुमार की यह कविता...सुन्दर.

Ratnesh said...

सुन्दर शब्दों में यह कविता उस सच को बयां करती है, जिससे हम रोज दो-चार होते हैं. कृष्ण कुमार जी की लेखनी की धार नित तेज होती जा रही है...साधुवाद स्वीकारें !!

'Yuva' said...

इस कविता को पढ़कर मैं इतना भाव-विव्हल हो गया हूँ कि शब्दों में बयां नहीं कर सकता.

Rashmi Singh said...

कृष्ण कुमार जी! आपकी रचनाधर्मिता पर देहरादून से प्रकाशित ''नवोदित स्वर'' के 19 january अंक में प्रकाशित लेख "चरित्र की ध्वनि शब्द से ऊँची होती है " पढ़कर अभिभूत हूँ....अल्पायु में ही पत्र-पत्रिकाएं आप पर लेख प्रकाशित कर रहें हैं, गौरव का विषय है !!

Rashmi Singh said...

आपकी हर रचना सोचने को विवश कर देती है.

Mrs. Asha Joglekar said...

बहुत सुंदर ममता की भावनाओं को सहेजने वाली कविता । लेकिन बच्चा कामयाब हो यही माँ का स्वप्न होता है चाहे उसे दूर क्यूं न जाना पडे ।अक्सर ये खुशी के आंसू होते हैं ।

bharati said...

aapne achha likha hai.

आकांक्षा~Akanksha said...

सुन्दर ब्लॉग...सुन्दर रचना...बधाई !!
-----------------------------------
60 वें गणतंत्र दिवस के पावन-पर्व पर आपको ढेरों शुभकामनायें !! ''शब्द-शिखर'' पर ''लोक चेतना में स्वाधीनता की लय" के माध्यम से इसे महसूस करें और अपनी राय दें !!!

shyam kori 'uday' said...

... अत्यंत प्रसंशनीय अभिव्यक्ति है।

bhawna said...

bahut sundar rachna

Shamikh Faraz said...

maa ke bare me likhi aik bahut badhiya kavita

hem pandey said...

दोनों होठों के चुम्बन से उच्चारण होता है ' माँ.'

अमित माथुर said...

सच है माँ के कदमो के नीचे जन्नत है ये बात बच्चा-बच्चा जानता है. क्या आप जानते हैं अगर माँ के कदमो तले जन्नत है तो 'पिता' उस जन्नत का दरवाज़ा है. सारी दुनिया माँ को सलाम करती है मगर पिता को पता नहीं क्यूँ साइडलाइन कर देती है. माँ को माँ बनाने वाला पिता होता है, जिन आदर्शो और सहारे को लेकर माँ अपने बच्चे का पालन-पोषण करती है वो पिता होता है, अब तो विज्ञान साक्षी है की माँ से पहले बच्चा पिता के पास होता है. मेरा आपसे विनम्र निवेदन है पिता को भी माँ के समान ही सम्मान दीजिये. जय हिंद -अमित माथुर (http://vicharokatrafficjam.blogspot.com)

'Yuva' said...

Bahut sundar...!!
___________________________________
युवा शक्ति को समर्पित ब्लॉग http://yuva-jagat.blogspot.com/ पर आयें और देखें कि BHU में गुरुओं के चरण छूने पर क्यों प्रतिबन्ध लगा दिया गया है...आपकी इस बारे में क्या राय है ??

aarya said...

Yadav ji
sadar vande !
aap ki kavita padhkar mai abhibhut ho gaya. satya bhi yahi hai Maa ke liye usaka beta hi sabkuchh hai na ki usaki unchai.
Ratnesh Tripathi

Shikha (MahiYa) said...

Bahut Sacchi aur Maarmik baat likhi hai..

Aaisi rachnaaye sirf ek baar padhne ke liye nahin hoti.. inhe baar baar padha jaata hai.. baar baar sochne par majboor kar deti hai.. aur baar baar kuch kadwi sachhaaiyaa aankhein nam kar deti hai.. Aaisi pyaari abhivyakti ke liye badhaai aur isey hum tak pahunchaane ke liye aapka shukriyaa bhi..

KK Yadav said...

पतंगा बार-बार जलता है
दिये के पास जाकर
फिर भी वो जाता है
क्योंकि प्यार
मर-मिटना भी सिखाता है !
.....मदनोत्सव की इस सुखद बेला पर शुभकामनायें !!
'शब्द सृजन की ओर' पर मेरी कविता "प्रेम" पर गौर फरमाइयेगा !!

K.P.Chauhan said...

maa ke aansu naamak kavitaa bahut hi maarmik hai is kavitaa ko padhkar mere nainon se ashru dhaara prvaahit ho gayi ,ishwar kare aap isi prkar likhte rahen

chetan anand said...

aap mere blog par aae, shukria. kavi sammelan ki report padh raha tha, imran ne geet se pahle jo chhar misre padhe, bata doon, os kavi dr. kunwar bechain ke hain. chetan anand

Puneet said...

wah koi do rai nahi ......

sach me jo hum sochte hai ya plan karte hai sab ka sab yahi reh jata hai.......

asli yojna to prakriti hi banati hai humare liye......

सतीश सक्सेना said...

वाकई व्यस्तता के साथ साथ माँ हमसे दूर होती चली जाती है !

sa said...

AV,無碼,a片免費看,自拍貼圖,伊莉,微風論壇,成人聊天室,成人電影,成人文學,成人貼圖區,成人網站,一葉情貼圖片區,色情漫畫,言情小說,情色論壇,臺灣情色網,色情影片,色情,成人影城,080視訊聊天室,a片,A漫,h漫,麗的色遊戲,同志色教館,AV女優,SEX,咆哮小老鼠,85cc免費影片,正妹牆,ut聊天室,豆豆聊天室,聊天室,情色小說,aio,成人,微風成人,做愛,成人貼圖,18成人,嘟嘟成人網,aio交友愛情館,情色文學,色情小說,色情網站,情色,A片下載,嘟嘟情人色網,成人影片,成人圖片,成人文章,成人小說,成人漫畫,視訊聊天室,a片,AV女優,聊天室,情色,性愛