Wednesday, October 1, 2008

माँ का एक और नया रूप

11 comments:

मोहन वशिष्‍ठ said...

very good pic ek sawal hai pic me aur pic yahi sandesh de rahi hai ki sabko gale lagao pyar do aur pyar paaoo bahut khoob

Shastri said...

बहुत सुंदर चित्र!!

-- शास्त्री

हिन्दी ही हिन्दुस्तान को एक सूत्र में पिरो सकती है
http://www.Sarathi.info

MANVINDER BHIMBER said...

bahut sunder chitr hai....

रंजना [रंजू भाटिया] said...

यह भी माँ का एक दया मय रूप है ..सुंदर लगा यह चित्र

*KHUSHI* said...

shukriya aap sabhi ka...
hame kuch likhna thaa iss picture ke baare mai lekin alfaaz hi kam pad gaye... jitna likhe utna kam hai.. to socha hamari kalam se jyada to ye picture hi sab kuch bolta hai...

Udan Tashtari said...

सुंदर चित्र!!

नमन!!

dhiru singh said...

karunamayi maa ,

PD said...

दिल को छू लेने वाली तस्वीर..
धन्यवाद, इसे हम तक पहूंचाने के लिये..

Mumukshh Ki Rachanain said...

नवरात्रि के शुभ अवसर पर माँ का ऐसा अद्भुत चित्रण कबीले तारीफ है. बधाई स्वीकार करें.
चन्द्र मोहन गुप्त
www.cmgupta.blogspot.com

सतीश सक्सेना said...

ममता का रूप थी मदर टेरेसा !

GS Bisht said...

बहुत ही सुंदर चित्र है दयामय माँ का