Wednesday, September 24, 2008

वंदे मातरम .

हम भारतियों के लिए वंदे मातरम भावना का चरम है ।

माँ ......हर धर्म सस्कृति समाज देश में ,इतिहास के हर मोड़ पे सर्वोच्च सम्मानित सम्बन्ध !

माँ की वंदना....... वंदे मातरम !........हम कहें .........वंदे मातरम !

'वंदे मातरम ' शब्द भारत के हैं ,पर सम्मान हर एक माँ का है !

फ़िर भी ......न कर सकें वंदना तो ना सही।

इतना तो करें....... किसी बेटे की गलती पे किसी ........

माँ को गाली तो न दें .

गलती बेटा करे .......गाली माँ खाए ??????????

वंदे मातरम !

5 comments:

सिद्धार्थ शंकर त्रिपाठी said...

वंदे मातरम !
सदुपयोग हो इस अभिवादन का। शुभ हो।

आपको साधुवाद, इस पोस्ट के लिए।

Mrs. Asha Joglekar said...

वंदे मातरम, सभी को प्रेरणा मिले इसे।

Shastri said...

वन्दे मातरम !!

राज सिंह जी, आज आपने मेरे दिल की भावना को शब्द प्रदान कर दिये!! आभार!

आपके कलम से और अधिक रचनाओं का इंतजार रहेगा!!

-- शास्त्री

-- हिन्दीजगत में एक वैचारिक क्राति की जरूरत है. महज 10 साल में हिन्दी चिट्ठे यह कार्य कर सकते हैं. अत: नियमित रूप से लिखते रहें, एवं टिपिया कर साथियों को प्रोत्साहित करते रहें. (सारथी: http://www.Sarathi.info)

रंजना [रंजू भाटिया] said...

वंदे मातरम !सही ..पहला नमन अपनी जन्मभूमि को है

Paliakara said...

वन्दे मातरम. एकदम ठोस बात कही है. यहाँ तो माँ की गाली तकिया कलाम है.